यास्मीन को देख लड़के भी खौफ खाते हैं

भारतीय महिला बॉडीबिल्डर का जलवा यास्मीन चौहान  आम लड़कियों से एकदम अलग हैं। वह ऐसे खेल में हैं जिसे मर्दों का खेल माना जाता है। एक लड़की होकर इस खेल में अपनी पहचान बनाना कोई आसान काम नहीं है। यास्मीन चौहान को बाइक चलाना बेहद पसंद है। हर दर्द को सहकर इस लड़की ने अपने शरीर को फौलाद का बनाया। अब तो लड़के भी यास्मीन चौहान से खौफ खाते हैं। जब वो चलती हैं तो किसी लड़के की हिम्मत नहीं कि वह कोई कमेंट्स कर सके। हम कह सकते हैं कि यास्मीन चौहान आज भारतीय महिला बॉडी बिल्डिंग.......

फिटनेस क्वीन अंतिका का जलवा

मऊ जिले के मुंगेसर गांव को नई पहचान दिला रही है किसान की बेटी जिम्नास्टिक को गांव.गांव तक पहुंचाने का जुनून श्रीप्रकाश शुक्ला देश में बेटियों को लेकर तरह.तरह की बातें होती हैं। बदलते समाज के बावजूद आज भी इन्हें चूल्हे.चौके के काबिल ही माना जाता है जबकि हमारी बेटियां खेल मैदानों से लेकर अंतरिक्ष तक की उड़ानें भर शिक्षा जगत में अपनी मेधा का परचम लहरा रही हैं। बेटियों के दिल में भी मादरेवतन की अस्मिता की फिक्र है। बेटियां रेलगाड़ी चला रही हैं तो विमान उड़ाने.......

एथलेटिक्स में महिलाओं का कमाल

पी.टी. ऊषा, अंजू बॉबी जॉर्ज और ललिता बाबर सिरमौर भारतीय महिलाएं हर क्षेत्र में विजय पताका फहरा रही हैं। खेल के क्षेत्र में भी भारतीय बेटियों ने अपने प्रदर्शन से नए प्रतिमान गढ़े हैं। एथलेटिक्स में भारतीय महिलाओं की बात करें तो उड़न परी पी.टी. ऊषा, अंजू बॉबी जॉर्ज और ललिता बाबर ने जो करिश्मा किया है, उसके करीब भी कोई अन्य भारतीय महिला नहीं पहुंची है। ओलम्पिक और विश्व स्तर पर इन तीनों महिलाओं ने ऐसी इबारत लिखी है जिस तक पहुंचने के लिए अन्य महिला एथलीट को मैडल जी.......

पूनम यादव को तंगहाली ने बनाया फौलादी

अब पूनम बनेगी मिर्जापुर की बहुरिया श्रीप्रकाश शुक्ला अच्छी-बुरी परिस्थितियां अमूमन हर इंसान के जीवन में आती हैं। कोई खराब परिस्थितियों के आगे लाचार हो जाता है तो कोई इसे अपनी ताकत बना लेता है। आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में स्वर्णिम भार उठाने वाली वाराणसी की पूनम यादव ने मुफलिसी से हार मानने की बजाय उसे अपनी ताकत बनाया। आज वाराणसी ही नहीं देश का हर खेलप्रेमी पूनम का मुरीद और इस जांबाज बेटी की दृढ़ इच्छाशक्ति का कायल है। पूनम ने खेल के क्.......

पिता योगराज ने बताई क्रिकेट से नफरत करने वाले युवी के 'युवराज' बनने की पूरी कहानी

युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। 10 जून, 2019 को मुंबई के एक होटल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर युवराज ने इसका ऐलान किया। इस दौरान युवराज ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया जिनसे वह प्यार करते हैं। इस दौरान युवराज के साथ उनकी पत्नी हेजल और मां सबनम मौजूद थीं। युवी ने अपने रिटायरमेंट स्पीच में कहा, 'आज जब मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर रहा हूं तो मेरे साथ वे सब लोग मौजूद हैं जिनसे मैं बेहद प्यार करता हूं। सिर्फ मेरे पिता नहीं ह.......

ट्रैक क्वीन शाइनी विल्सन

75 से अधिक बार किया देश का प्रतिनिधित्व केरल ने देश को एक से बढ़कर एक महिला धावक दिए हैं। उड़नपरी पी.टी. ऊषा को भला कौन नहीं जानता। केरल की शाइनी अब्राहम विल्सन भारत की एक ऐसी एथलीट हैं जिन्होंने विश्व एथलेटिक्स स्पर्धाओं में भारत का 75 बार से अधिक प्रतिनिधित्व किया है। शाइनी विल्सन की शानदार उपलब्धियों को देखते हुए उन्हें 1996 में बिरला पुरस्कार प्रदान किया गया। 1998 में शाइनी को पद्मश्री से सम्मानित किया गया तथा एशिया के 10 .......

गोल्ड लाऊंगी, तिरंगा लहराऊंगी : सीमा पूनिया

सीमा जो कहती हैं वह कर दिखाती हैं। अपनी बाजुओं को मजबूत करने के लिए रोलर चलाती हैं तो फिटनेस कायम रखने के लिए भोजन पर भी विशेष ध्यान देती हैं। पिछले एशियाई खेलों की गोल्ड मेडलिस्ट सीमा अंतिल पूनिया टोक्यो ओलम्पिक को लेकर अभी कुछ नहीं कहना चाहती। गौरतलब है कि भारत का कोई भी एथलीट आज तक ओलम्पिक में कोई पदक नहीं जीत पाया है। सकौती टांडा निवासी इंटरनेशनल डिस्कस थ्रो खिलाड़ी अंकुश पूनिया की पत्नी इंटरनेशनल खिलाड़ी सीमा पूनिया ने जकार्ता जाने से पहले विश्वास दिलाया था कि वह गोल्ड जीतेंगी और तिरंगा लह.......

मैरीकॉम ने बताया संन्यास का प्लान

नई दिल्ली: भारत की स्टार बॉक्सर एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) ने अपने संन्यास की योजना का खुलासा कर दिया है. 36 साल की एमसी मैरीकॉम करीब 18 साल से बॉक्सिंग में सक्रिय हैं. उन्होंने इस दौरान छह विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड और एक ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता है. वे इसके अलावा पांच एशियन चैंपियनशिप भी अपने नाम कर चुकी हैं. वे फिलहाल राज्य सभा सदस्य भी हैं.  एमसी मैरीकॉम ने गुरुवार को कहा कि उनकी योजना टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद संन्यास लेने की है. उ.......

सुनील छेत्री ने बनाया एक और रिकॉर्ड, ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने

बुरिराम (थाईलैंड): सुनील छेत्री भारत के लिए सबसे अधिक अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले फुटबॉल खिलाड़ी बन गए हैं. मौजूदा भारतीय टीम के कप्तान छेत्री ने 108 मैच खेले हैं. सुनील छेत्री (Sunil Chhetri) ने इस मामले में पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया को पीछे छोड़ा. भूटिया ने राष्ट्रीय टीम के लिए कुल 107 मैच खेले थे.  सुनील छेत्री ने यहां जारी किंग्स कप (King's Cup 2019) के पहले मैच में कैरेबियाई द्वीप कुराकाओ के खिलाफ मैदान पर उतरकर यह कीर्तिमान स्थापित किया. भारती.......