पाकिस्तान दोहरा रहा 1992 के वर्ल्ड कप का इतिहास

पहले 6 मैच के नतीजे एक जैसे, क्या फिर बनेगा चैम्पियन

नई दिल्ली: क्या पाकिस्तान मौजूदा आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप  के सेमीफाइनल में पहुंच सकता है? प्वाइंट टेबल के समीकरण को देखने पर अगर-मगर की स्थिति दिखती है. लेकिन अगर आप संयोग पर भरोसा करते हैं तो इसका जवाब हां हो सकता है. दरअसल, मौजूदा वर्ल्ड कप और 1992 में हुए विश्व कप में पाकिस्तान का खेल एक जैसा रहा है. लेकिन तब वह शुरुआती पांच मैचों में से तीन हारकर भी चैंपियन बना था. इसलिए पाकिस्तानी प्रशंसकों को उम्मीद है कि इस बार भी उनकी टीम वापसी कर सेमीफाइनल में जगह बना सकती है. 

इस संयोग को समझने के लिए पहले इस वर्ल्ड कप की बात करते हैं. पाकिस्तान  की शुरुआत इस बार हार से हुई. उसने दूसरा मैच जीता और तीसरा बारिश से धुल गया. इसके बाद उसे चौथे और पांचवें मैच में हार का सामना करना पड़ा. फिर उसने छठा मैच जीत लिया. उसने रविवार को छठे मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 49 रन से हराया था.

अब 1992 के विश्व कप की बात. तब इमरान खान की कप्तानी वाली टीम पहला मैच वेस्टइंडीज से 10 विकेट से हारी थी. दूसरे मैच में जिम्बाब्वे को 53 रन से हराया था. तीसरा मैच (विरुद्ध इंग्लैंड) बारिश में धुला था. वह चौथे मैच में भारत और पांचवें मैच में दक्षिण अफ्रीका से हार गया था. फिर छठे मैच में ऑस्ट्रेलिया को 48 रन से हराया था. 

और न्यूजीलैंड फिर अजेय...
2019 और 1992 के विश्व कप में एक और समानता यह है कि न्यूजीलैंड की टीम तब तक अजेय रही, जब तक उसका सामना न्यूजीलैंड से नहीं हुआ. पाकिस्तान ने 1992 में न्यूजीलैंड को ही हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी. इस बार भी सेमीफाइनल की राह में उसका सबसे बड़ा रोड़ा न्यूजीलैंड ही लग रहा है. अगर वह 26 जून को न्यूजीलैंड को हरा देता है तो अंतिम-4 की अपनी उम्मीद काफी मजबूत कर लेगा. 

पाकिस्तान के अभी 3 मैच बाकी 
पाकिस्तान को न्यूजीलैंड के बाद अफगानिस्तान और बांग्लादेश से भी भिड़ना है. अगर वह ये तीनों मैच जीत लेता है तो उसके 11 अंक हो जाएंगे. आज की तारीख में सिर्फ न्यूजीलैंड के ही इतने अंक है. न्यूजीलैंड के अलावा भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और श्रीलंका ही ऐसी टीमें हैं, जो 11 से अधिक अंक हासिल करने की क्षमता रखती हैं. लेकिन जैसा कि इंग्लैंड का ही उदाहरण लें. उसे भारत, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड से खेलना है. अगर वह इनमें से दो मैच हार जाता है तो पाकिस्तान का रास्ता खुल जाएगा. ऐसे ही कई और समीकरण हैं, जो पाकिस्तान के 11 अंक होने पर उसे सेमीफाइनल की रेस में बनाए रखेंगे. 

भारत-पाकिस्तान के बीच सेमीफाइनल...
कुछ लोग यह उम्मीद भी जता रहे हैं कि इसी वर्ल्ड कप में भारत और पाकिस्तान  के बीच फिर मुकाबला हो सकता है. लेकिन यह अभी दूर की कौड़ी है. अभी तो यही तय नहीं है कि पाकिस्तान सेमीफाइनल में पहुंचेगा या नहीं. उसका रास्ता कतई आसान नहीं है. ऐसा तभी होगा, जब इंग्लैंड अपने कम से कम दो मैच हारे या ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में से कोई एक टीम अपने तीनों में मैच हारे.  

रिलेटेड पोस्ट्स