शीर्ष-100 खिलाड़ियों में शामिल हुए सुमित नागल

यह उपलब्धि हासिल करने वाले भारत के 10वें टेनिस खिलाड़ी
खेलपथ संवाद
नई दिल्ली। पुरुष एकल में भारत के शीर्ष टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल ने एटीपी रैंकिंग में लंबी छलांग लगाई है और करियर बेस्ट रैंकिंग हासिल की है। सोमवार को जारी हुई ताजा एटीपी रैंकिंग में नागल 23 स्थान की छलांग के साथ अपने करियर में पहली बार शीर्ष 100 में पहुंच गए। रविवार को चेन्नई ओपन चैलेंजर टूर्नामेंट में जीत के साथ ही नागल एटीपी रैंकिंग में पुरुष एकल में 98वें पायदान पर पहुंच गए। शीर्ष पर सर्बिया के नोवाक जोकोविच काबिज हैं।
पिछले महीने ऑस्ट्रेलियन ओपन में सुमित नागल ने इतिहास रचा था। वह 1989 के बाद से ऑस्ट्रेलियन ओपन में किसी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी को हराने वाले देश के पहले खिलाड़ी बन गए थे। नागल ने पहले दौर में दुनिया के 27वें नंबर के खिलाड़ी कजाखस्तान के एलेक्जेंडर बुबलिक को 6-4, 6-2, 7-6 (7-5) से हराया था। हालांकि, दूसरे दौर में उन्हें चीन के जनचेंग शैंग के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। 
सुमित नागल पुरुष एकल में 2019 में बाएं हाथ के प्रजनेश गुणेश्वरन के शीर्ष 100 में पहुंचने के बाद बाद शीर्ष 100 में जगह बनाने वाले पहले भारतीय हैं वहीं, 1973 में कंप्यूटरीकृत एटीपी रैंकिंग आने के बाद से वह शीर्ष 100 में पहुंचने वाले ओवरऑल 10वें भारतीय और नौवें पुरुष (एकल में) खिलाड़ी हैं। महिलाओं ने सिर्फ सानिया मिर्जा ही एटीपी रैंकिंग में शीर्ष-100 में पहुंच पाई थीं। वह 2007 में महिला एकल में करियर बेस्ट 27वें रैंक पर पहुंची थीं।
नागल ने रविवार को चेन्नई में मिली जीत के बाद कहा, 'मैं बहुत भावुक हूं। हर टेनिस खिलाड़ी का सपना कम से कम शीर्ष 100 में पहुंचना होता है। जैसा कि मैंने पहले कहा कि अपने देश के घरेलू दर्शकों के सामने यह मैच जीतना शानदार है। इसके लिए इससे बेहतर जगह नहीं हो सकती थी।' उन्होंने कहा,  'मुझे नहीं लगता कि इसे बयां करने के लिए शब्द थे। हर कोई रो रहा था। शब्द कम थे, आंसू ज्यादा। मैं अब भी बहुत भावुक हूं। पिछले साल मेरी रैंकिंग 500 थी, जिसके बाद मेरी सर्जरी हुई और वित्तीय सहयोग भी नहीं था तो पिछला साल काफी मुश्किल रहा। काफी उतार चढ़ाव हुए। मैं खुश हूं कि हर दिन आगे बढ़ने के लिए मुझे एक तरीका मिल गया।'
ये हैं शीर्ष 100 में पहुंचने वाले भारतीय खिलाड़ी
नाम व करियर बेस्ट रैंकिंगः
विजय अमृतराज 18 (1980), आनंद अमृतराज 74 (1974), सानिया मिर्जा 27 (2007), जसजीत सिंह 89 (1974), शशि मेनन 71 (1975), रमेश कृष्णन 23 (1985), सोमदेव देववर्मन 62 (2011), यूकी भांबरी 83 (2018), प्रजनेश गुणेश्वरन 75 (2019), सुमित नागल 98* (2024).
रिलेटेड पोस्ट्स